91. बूंदी दुर्ग में बने महलों के बारे में किसने लिखा है कि 'यह महल भूतों प्रेतों द्वारा निर्मित है'-
अबुल फजल
कर्नल टॉड
किपलिंग
फर्ग्युसन
Note:

92. मेहरानगढ़ दुर्ग में किस की मजार स्थित है?
मीरान खां की
दीवान शाह की
अब्दुल्ला खां की
भूरे खां की
Note: मेहरानगढ़ दुर्ग में भूरे खां की मजार स्थित है। भूरे खां 1808 में मेहरानगढ़ किले की रक्षा करते हुए शहीद हो गए थे। उनके मजार पर लोग मन्नत मांगने भी आते हैं। जोधपुर का मेहरानगढ़ किला 120 मीटर ऊंची एक पहाड़ी पर बना हुआ है। इस तरह से यह किला दिल्ली के कुतुब मीनार की ऊंचाई (73 मीटर) से भी ऊंचा है। वही मेहरानगढ़ दुर्ग के अंदर चामुंडा माता मंदिर तथा राठौड़ों की कुलदेवी नागणेची माता का मंदिर भी स्थित है।


93. मेवाड़ की आंख किसे कहा जाता है?
चित्तौड़गढ़ दुर्ग
सज्जनगढ़ दुर्ग
अचलगढ़ दुर्ग
कुम्भलगढ़ दुर्ग
Note: कुम्भलगढ किले को मेवाड की आँख कहते है। यह दुर्ग कई घाटियों व पहाड़ियों को मिला कर बनाया गया है, जिससे यह प्राकृतिक सुरक्षात्मक आधार पाकर अजय रहा। इस दुर्ग में ऊँचे स्थानों पर महल, मंदिर व आवासीय इमारते बनायीं गई और समतल भूमि का उपयोग कृषि कार्य के लिए किया गया।

94. वह किला जिसमें एक जैसे नौ महल है?
नाहरगढ़ किला
आमेर किला
जोधपुर किला
जूनागढ़ किला
Note:

95. बादल महल किस दुर्ग में स्थित है?
कुम्भलगढ़ दुर्ग
चित्तौड़गढ़ दुर्ग
जालौर दुर्ग
नाहरगढ़ दुर्ग
Note:

96. 'गुब्बारा', 'नुसरत', 'नागपली' और 'गजक' नाम है-
मेवाड़ में प्रचलित क्षेत्रीय मिठाइयों के नाम
मारवाड़ी ठिकानों के वस्त्रों के नाम
जोधपुर दुर्ग की तोपो के नाम
मेवाड़ में प्रचलित राजस्व वसूली करो के नाम
Note: मेहरानगढ़ दुर्ग में लंबी दूरी तक मार करने वाली तीन विशालकाय उत्कृष्ट तोपे – किलकिला तोप, शंभू बाण तोप, गजनी खा तोप आदि है। नागपली,नुसरत गजक, गुब्बारा आदि यहां के अन्य प्रसिद्ध तोपे है।


97. 'घुंघट' 'गूगड़ी' 'बांद्रा' और 'इमली' क्या है?
तारागढ़ अजमेर की प्राचीर की विशाल बुर्जो के नाम
मेवाड़ आंचलित में स्त्रियों के पहनावे के नाम
मारवाड़ी लोक परंपरा में जातियों के गोत्रों के नाम
राजस्थानी खानपान विधियों के नाम
Note:

98. वह किला जिसकी आजादी और अस्मिता की रक्षा के लिए वहां के ठाकुरों ने गोला और बारूद खत्म होने पर चांदी के गोले दागे थे-
चूरू का किला
जूनागढ़ का किला
लोहागढ़ का किला
केसरोली का किला
Note: "चूरू का किला" राजस्थान के चूरू जिले में स्थित है। इसका निर्माण वर्ष 1694 में ठाकुर कुशल सिंह ने करवाया था। यह किला दुनिया का एकमात्र ऐसा किला है, जहां युद्ध के समय गोला बारूद खत्म हो जाने पर तोप से दुश्मनों पर चांदी के गोले दागे गए थे। यह युद्ध 1814 में चूरू के राजा शिवजी सिंह और बीकानेर के रियासत के राजा सूरत सिंह के मध्य हुआ था।

99. निम्न में से कौन सा धान्वन दुर्ग है?
अचलगढ़ दुर्ग
आमेर दुर्ग
गागरोन दुर्ग
जैसलमेर दुर्ग
Note: धान्वन दुर्ग : ऐसा दुर्ग जिसके दूर-दूर तक मरु भूमि फैली हो, जैसे - जैसलमेर (स्थल दुर्ग) का किला ।

100. चित्तौड़गढ़ दुर्ग के विजय स्तंभ का वास्तुकार कौन था?
मंडन
जीवा
जैता
दीपा
Note: विजय स्तंभ के वास्तुकार मंडन, जैता व उसके पुत्र नापा, पुंजा थे। यह राजस्थान पुलिस और माध्यमिक शिक्षा बोर्ड का प्रतीक चिह्न है। इसे भारतीय मूर्तिकला का विश्वकोश और हिन्दू देवी देवताओं का अजायबघर कहते हैं।


101. किस पहाड़ी पर जोधपुर का मेहरानगढ़ दुर्ग स्थित है?
गिरी सुमेर
चिड़िया टूंक
बड़ी टेकरी
बिथली टूंक
Note: मंडोर के किले को शत्रुओं से असुरक्षित जानकर राव जोधा ने मण्डोर से 6 मील दूर दक्षिण में चिडि़यानाथ की टूंक नामक पहाड़ी पर 12 मई 1459 से एक नया दुर्ग बनवाना शुरू किया। इसके बाद से 500 वर्ष तक ये किला मारवाड़ की राजनीतिक व सामरिक गतिविधियों का प्रमुख केंद्र रहा।

102. बीकानेर के जूनागढ़ किले का निर्माण किसने करवाया था?
महाराजा अनूप सिंह
महाराजा रायसिंह
राव कल्याणमल
राव बीका
Note: बीकानेर के जूनागढ़ किले का निर्माण बीकानेर के शासक राजा राय सिंह ने प्रधान मंत्री करण चंद की निगरानी में करवाया था, राजा राय सिंह ने 1571 से 1611 AD के बीच बीकानेर पर शासन किया था। किले की दीवारों और खाई का निर्माणकार्य 1589 में शुरू हुआ था और 1594 में पूरा हुआ था। इस किले को जमीन का जेवर भी कहते है।

103. 99 बुर्जो वाला दुर्ग कहाँ स्थित है?
हनुमानगढ़
चित्तौरगढ़
जैसलमेर
बाड़मेर
Note: जैसलमेर का पीले पत्थर से बना ‘स्वर्ण किला’ राजस्थान के उत्तरी पश्चिमी भाग में प्रवेश का प्रमुख द्वार माना जाता रहा है। 75 मीटर ऊंची त्रिकूट पहाड़ी पर 99 बुर्जो वाला यह किला राजस्थान का अत्यंत प्रसिद्ध किला है।

104. महाराणा कुम्भा ने कितने दुर्गों का निर्माण करवाया?
29
31
32
33
Note: महाराणा कुंभा ने मेवाड़ के 84 दुर्गों में से 32 दुर्गों का निर्माण करवाया था।


105. दुर्ग जो महाराणा कुम्भा द्वारा निर्मित नहीं है?
भोमट दुर्ग
मचान दुर्ग
भैंसरोड़ गढ़ दुर्ग
बसंती दुर्ग
Note: भैंसरोडगढ़ दुर्ग के निर्माण का श्रेय सलम्बर के रावत केसरी सिंह के पुत्र रावत लाल सिंह-द्वितीय को जाता है। भैंसरोडगढ़ दुर्ग को “राजस्थान का वेल्लोर” कहते है। यह रावतभाटा के निकट स्थित है।




GK Test Series

Rajasthan GK Test Series #42

Time: 2 min. & Total Questions: 10


Rajasthan GK Test Series #41

Time: 2 min. & Total Questions: 10


Rajasthan GK Test Series #40

Time: 2 min. & Total Questions: 10